Monday, November 24, 2008

हवा में लटकते हर्फ़

अमूमन
किनारों पर बैठी
लहरें बता देती हैं
कि तूफान आयेगा
ये लहरे हैं समंद्र की
मन की कोई लहर नहीं होती
न पानी के छड़ापे
बस
इक तूफान उठता है
जो पलकों पर आ कर
ठहरता है
दीखते है
हवा में लटकते हर्फ़
मैं उन्हें कागज पर रख देती हूं
कई बार ये हर्फ़ बर्फ से ठंडे होते है
तो कई बार सूरज का सेक लिए

21 comments:

Udan Tashtari said...

बहुत गहरे अल्फ़ाज.

संपूर्ण प्रवाह के साथ.

शोभा said...

वाह! सही कहा तुमने।

COMMON MAN said...

sundar kalpana(mere liye) achcha chitran.

COMMON MAN said...
This comment has been removed by the author.
रंजना [रंजू भाटिया] said...

कई बार ये हर्फ़ बर्फ से ठंडे होते है
तो कई बार सूरज का सेक लिए

बहुत बढ़िया

"अर्श" said...

दीखते है
हवा में लटकते हर्फ़
मैं उन्हें कागज पर रख देती हूं

बहोत खूब लिखा है गहरे एहसास के साथ बहोत बढ़िया नज़्म ... ढेरो बधाई आपको...

Anil Pusadkar said...

बहुत बढिया,

Anil Pusadkar said...

बहुत बढिया,

वर्षा said...

अच्छी कविता है

mehek said...

bahut sundar

समयचक्र - महेद्र मिश्रा said...

अमूमन
किनारों पर बैठी
लहरें बता देती हैं
कि तूफान आयेगा
बहुत बढ़िया...सही है.

Manish Kumar said...

सही कहा ! भावनाएँ आँखों से छलक नहीं पातीं तो कागज़ पर हर्फों के दररमियान ही दफ़न हो जाती हैं।

shama said...

Alfaaz behad khoobsoorat hain...kehte, sunte aaye hain ki bhasha bohothi adhoora madhyam hai samwadka ka...phirbhee jab uske alawa koyi chara nahee reh jaata to use kitna prabhavee bana jaa sakta hai ye koyi aap jaise likhnewalonse poochhe...!Dono rachnayen itne kam shabdonme itnaa kuchh keh gayee ki mai stabdh reh gayee...!Kabhi barfsa thanda man to kabhi soorajsi raushan muskaan !
Aapki ID par maineapne artwork ki kuchh pics bhejnee chahee par bounce ho gayi. is msg ke saath ki aapki "yahoo " ID nahee hai..Kya mujhe bata sakengee ki kis IDpe bhejun?

नीरज गोस्वामी said...

कई बार ये हर्फ़ बर्फ से ठंडे होते है
तो कई बार सूरज का सेक लिए
कमाल किया है आपने...बेहद खूबसूरत रचना...वाह.
नीरज

Manvinder said...

Shama ji or mere sabhu bloger sathion,
mere shabdon ko maan or hoslafasayee ke shukriya......
shama ji , aap manvinderb@gmail.com per bhej do

Zakir Ali 'Rajneesh' said...

छोटी किन्तु गहरी कविता। भावनाओं को सुन्दर प्रस्तुतिकरण।

प्रदीप मानोरिया said...

भयंकर बात सहज शब्दावली मज़ा आ गया आपका चिंतन बहुत गहरा है

shama said...

Manvidarji...aaj yahan aayee hun aapko mere blogpe aamantrit karne.." Meree Aawaz Suno" is lekhko padhnekee iltija karne...Mumaime hue bam dhamakonse, un teen afsaronkee mautse( inke alawa har massomki)karah uthee hun...inhen barose jaana tha...apne haathonse kayee baar khana khilaya tha....Aur saath hee ek pran karne...

डुबेजी said...

mere blog par ane ke liye dhanyawad aur sundar kavita ke liye badhai

Dr.Bhawna said...

कई बार ये हर्फ़ बर्फ से ठंडे होते है
तो कई बार सूरज का सेक लिए

Bahut hi ghari bat ha in panktiyon men...Bahut-Bahut badhai

sandhyagupta said...

Achcha likha hai aapne.Badhai.